beejamrit

बीजामृत तैयारी और उपयोग पर यह मार्गदर्शिका आपको बीजामृत या बीजामरुतम तैयार करने की पूरी प्रक्रिया को समझने में मदद करेगी।

बीजामृत एक अद्भुत जैविक घोल है जिसका उपयोग बीज उपचार के लिए किया जा सकता है। इस जैविक समाधान की उपयोगिता को राष्ट्रीय जैविक खेती केंद्र, गाजियाबाद (भारत) द्वारा पहले ही सत्यापित किया जा चुका है। चाहे आप किसान हों या माली, आप दिए गए चरणों का पालन करके इस घोल को आसानी से तैयार कर सकते हैं।




बीजामृत के लाभ

कई किसानों ने इस अद्भुत स्वदेशी, जैविक बीज अंकुरण बढ़ाने वाले के बारे में ज्ञान साझा करने का अनुरोध किया। हालांकि, अकार्बनिक रसायनों की तुलना में इसकी कीमत बहुत कम है। इसकी तैयारी में बहुत कम समय भी लगता है।

नेशनल सेंटर ऑफ़ ऑर्गेनिक फ़ार्मिंग के शोध के अनुसार, इस जैविक घोल का उपयोग बीज जनित रोगों से बीजों की रक्षा कर सकता है। यह बीजों की अंकुरण क्षमता में सुधार करने में भी मदद करता है। यह अद्भुत जैविक समाधान जड़ों के प्रसार को तेज करता है और इसे कीट या किसी भी कवक के हमले से बचाता है।

तो, आइए अब इस जैविक घोल को तैयार करने की पूरी प्रक्रिया को समझते हैं।






beejamrit

बीजामृत के लिए सामग्री

100 किलोग्राम बीज के उपचार के लिए आपको निम्नलिखित सामग्री की आवश्यकता होगी।

अवयवमात्रा
गाँय का गोबर5 किलोग्राम
गाय का मूत्र5 लीटर
चूना पत्थर या चूना50 ग्राम
पानी20 लीटर
बीज 100 किलोग्राम
मिट्टी
(बरगद के पेड़ की जड़ों के आसपास की मिट्टी को प्राथमिकता दें)
50 ग्राम
स्रोत: NCOF, Ghaziabad


गाय का गोबर सूक्ष्म पोषक तत्व, स्थूल पोषक तत्व, और लाभकारी रोगाणुओं को जोड़ता है। गोमूत्र में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण होते हैं जो बीजों को बचाने में मदद करते हैं। हम गोमूत्र की अम्लीय प्रकृति को संतुलन करने के लिए चूना पत्थर या चूना मिलाते हैं। यह घोल के पीएच स्तर को बनाए रखने में मदद करता है।

इसलिए चूना पत्थर मिलाना बहुत जरूरी है। एक बार जब आप इन सामग्रियों को व्यवस्थित कर लेते हैं, तो आपको निम्नलिखित प्रक्रिया का पालन करना होगा।


इन्हें पढ़कर आपको भी अच्छा लगेगा,

और पढ़ें: वेस्ट डीकंपोजर कैसे तैयार करें और उसका उपयोग कैसे करें

और पढ़ें: 3जी कटिंग: उपज को 14 गुना तक बढ़ाएं!


प्रक्रिया

प्रक्रिया काफी सरल है। 20 लीटर पानी की क्षमता वाला प्लास्टिक ड्रम लें। ड्रम में पानी डालें और उसमें गोबर, मूत्र, चूना पत्थर या चूना और मिट्टी डालें। इसे लकड़ी के डंडे की सहायता से अच्छी तरह मिला लें। इस घोल को 24 घंटे के लिए छाया में रख दें।

Watch this video tutorial to learn the procedure

24 घंटे के बाद, बीज को प्लास्टिक शीट या सीमेंट के फर्श पर फैला दें। तैयार घोल को बीजों पर छिड़कें। सुनिश्चित करें कि बीज घोल में अच्छी तरह से ढँक गए हों। बीजों को छाया में हवा में सुखाएं।

बीजों को हवा में सुखाने के बाद आप उन्हें सुबह या शाम को बो सकते हैं। आप इस घोल का उपयोग सब्जी के पौधों की जड़ों के उपचार के लिए भी कर सकते हैं।

रोपण से पहले जड़ों को कुछ सेकंड के लिए घोल में डुबोएं। पौध निकालकर अपने खेत या बगीचे में रोपें। आप इस समाधान का उपयोग खेती के साथ-साथ बागवानी के लिए भी कर सकते हैं।






लेखक का नोट

मुझे आशा है कि अब आप अपने घर के बगीचे या खेत में आसानी से बीजामृत तैयार कर सकते हैं। यह निश्चित रूप से आपकी जैविक खेती को बढ़ाने वाला है। यदि आपको अभी भी कोई कठिनाई आती है या कोई प्रश्न है तो नीचे टिप्पणी करें।

आप फेसबुक और इंस्टाग्राम पर एग्रीकल्चर रिव्यू से भी जुड़ सकते हैं।

Similar Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *